10 lines on Jallikattu

10 lines Essay on Jallikattu

जल्‍लीकट्टू

आज हम आपके लिए पर एक आसान निबंध लेकर आए हैं 10 lines Essay on Jallikattu, इसे पोंगल त्यौहार पर आयोजित कराया जाता है। इसे तमिलनाडु के गौरव तथा संस्कृति का पर्व माना जाता है। जल्‍लीकट्टू तमिलनाडु का 2000 साल पुराना खेल है, जो उनकी संस्कृति से जुड़ा है।

इस खास मौके पर जलीकट्टू के अलावा बैल दौड़ का भी काफी जगह आयोजन किया जाता है। यह खास बैलों की लड़ाई के रूप में जलीकट्टू के खेल आयोजन किया जाता है।जलीकट्टू को पहले “सल्लीकास” कहते थे, बाद में इसका नाम बदल कर “जलीकट्टू” कर दिया गया। जो व्यक्ति लंबे समय तक बैल को काबू में रख लेता है, उसे सिकंदर की उपाधी दी जाती है।

Read More about  Savitribai Phule Jayanti 2022  click here

10 lines Essay on Jallikattu

Essay Writing

10 lines Essay on Jallikattu in Hindi

  1. जल्‍लीकट्टू (Jallikattu) तमिलनाडु के ग्रामीण इलाक़ों का एक परंपरागत खेल है, इसे तमिलनाडु के गौरव तथा संस्कृति का पर्व माना जाता है। जो पोंगल त्यौहार पर आयोजित कराया जाता है।
  2. जलीकट्टू तमिल के दो शब्द “जली” और “कट्टू” से जोड़कर बनाया गया है। तमिल में जलि का अर्थ है सिक्के की थैली और कट्टू का अर्थ है बैल का सिंग। जल्‍लीकट्टू तमिलनाडु का 2000 साल पुराना खेल है, जो उनकी संस्कृति से जुड़ा है।
  3. इस खास मौके पर जलीकट्टू के अलावा बैल दौड़ का भी काफी जगह आयोजन किया जाता है। यह खास बैलों की लड़ाई के रूप में जलीकट्टू के खेल आयोजन किया जाता है।
  4. जलीकट्टू खेल के मंदिरों के बैलों को तैयार किया जाता है क्योंकि मंदिरों के इन बैलों को सभी मवेशियों का मुखिया माना जाता है।
  5. जलीकट्टू में सबसे पहले तीन बैलों को छोड़ा जाता है, जिनको कोई नहीं पकड़ता। ये बैल गांव के सबसे बूढ़े बैल होते हैं, जिनको गांव की शान के रूप में देखा जाता है। इन बैलों को जाने के बाद जलीकट्टू का असली खेल शुरू होता है।
  6. बैलों की सिंगों पर सिक्कों की थैली को बांध दिया जाता है और फिर उनको भड़काकर भीड़ में छोड़ दिया जाता है। ताकि लोग बैलों को पकड़कर सिक्कों की थैली ले सकें।
  7. जो व्यक्ति बैल पर काबू पा लेता है, उसको इनाम दिया जाता है। इस खेल से पहले बैलों को खूंटे से बंधकर उकसाया जाता है। जलीकट्टू में खेल के तीन प्रारूप होते हैं- पहला “वाटी मंजू विराट्टू”, दूसरा “वेलि विराट्टू” और तीसरा “वाटम मंजूविराट्टू” है।
  8. “वाटी मंजू विराट्टू” के तहत खिलाड़ियों को निश्चित समय और दूरी के भीतर बैलों पर काबू करना होता है। “वेलि विराट्टू” के तहत बैलों के सिंग पर सिक्कों की थैली बांधकर खुले मैदान में छोड़ दिया जाता है, और प्रतिस्पर्धियों को इन पर काबू करना होता है। “वाटम मंजूविराट्टू” के तहत बैलों को लंबी रस्सी से बांधा जाता है और खिलाड़ी को उन पर काबू करना होता है।
  9. प्राचीनकाल में महिलाएं अपने पति को चुनने के लिए जलीकट्टू खेल का सहारा लेती थीं। यह ऐसी परंपरा थी, जो योद्धाओं के बीच काफी लोकप्रिय है। जो योद्धा बैलों को काबू में कर लेता था, उनको महिलाएं पति के रूप में चुनती थीं।
  10. जलीकट्टू को पहले “सल्लीकास” कहते थे, बाद में इसका नाम बदल कर “जलीकट्टू” कर दिया गया। जो व्यक्ति लंबे समय तक बैल को काबू में रख लेता है, उसे सिकंदर की उपाधी दी जाती है।

10 lines Essay on Jallikattu in English

1. Jallikattu is a traditional game of the rural areas of Tamil Nadu, It’s considered a festival of pride and culture of Tamil Nadu.  Organized on Pongal Festival.

Jallikattu is formed by combining two Tamil words “Jali” and “Kattu”.  Jali in Tamil means ‘Coin Bag’ and kattu means ‘Bull’s Horn’.  Jallikattu is a 2000 year old sport of Tamil Nadu, which is associated with their culture.

Apart from Jallikattu, bull races are also organized at many places on this special occasion.  This special event is organized in the form of bull fights in the form of Jallikattu.

Temple oxen are prepared for the game of Jallikattu as these temple bulls are considered to be the head of all cattle.

In Jallikattu, first of all three bullocks are released, which no one catches. These bulls are the oldest bulls of the village, which are seen as the pride of the village. After the release of these bulls, the real game of Jallikattu begins.

A bag of coins is tied on the horns of the bullocks and then they are instigated and released into the crowd. So that people can catch the bullocks and take a bag of coins.

The person who overcomes the bull is rewarded. Before this game, bullocks are tied to pegs and provoked. In Jallikattu there are three formats of the game – 1st “Vati Manju Virattu”, 2nd “Veli Virattu” and 3rd “Vatam Manjuvirattu”.

Under “Vati Manju Virattu” players have to control the bullocks within a given time and distance. Under “Veli Virattu”, bags of coins are tied to the horns of oxen and released into the open field, and competitors have to control these. Under “Vatam Manjuvirattu” the bullocks are tied with a long rope and the player has to control them.

In ancient times, women used to resort to the game of Jallikattu to choose their husbands. It was such a tradition, which is quite popular among the warriors.  The warriors who controlled the oxen were chosen by the women as their husbands.

Jallikattu was earlier called “Sallikas”, later its name was changed to “Jallikattu”. The person who keeps the bull under control for a long time is given the title of “Sikandar”.


Conclusion

हम आशा करते हैं कि 10 lines Essay on Jallikattu के माध्यम से आपको Jallikattu के बारे में जानकारी मिली होंगे , जल्‍लीकट्टू  तमिलनाडु के गौरव तथा संस्कृति का पर्व माना जाता है। जो पोंगल त्यौहार पर आयोजित कराया जाता है। हमे उम्मीद है के आप को जल्‍लीकट्टू पर रोचक जानकारी मिली होगी और जो आपको पसंद आई होगी। अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी हो तो कृपया कमेंट बॉक्स को लाइक और कमेंट करें।

5/5 - (2 votes)

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top