10 lines Essay on Valmiki Jayanti

महर्षि वाल्मीकि जयंती

10 lines Essay on Valmiki Jayanti, Pargat Diwas, or Valmiki Jayanti, वाल्मीकि जयंती रामायण लिखने वाले ऋषि महर्षि वाल्मीकि की जयंती पर मनाई जाती है। इस दिन को प्रगति दिवस के रूप में भी मनाया जाता है। हिंदू चंद्र कैलेंडर के अनुसार, वाल्मीकि जयंती अश्विन महीने में पूर्णिमा के दिन मनाई जाती है।

Essay Writing

10 lines Essay on Valmiki Jayanti in Hindi

  1. वाल्मीकि जयंती “रामायण” के रचयिता महर्षि वाल्मीकि के जन्मदिवस के रूप में मनाया जाता है।
  2. हिंदी पञ्चाङ्ग के आश्विन महीने की शरद पूर्णिमा को वाल्मीकि जयंती मनाया जाता है।
  3. महर्षि वाल्मीकि संस्कृत महाकाव्य लिखने वाले प्रथम कवि हैं।
  4. वाल्मीकि रामायण में कुल 7 अध्यायों में 24000 श्लोकों का संस्कृत में उल्लेख हैं।
  5. भगवान श्री राम के दोनों पुत्रों का जन्म महर्षि के आश्रम मे ही हुआ था।
  6. महर्षि वाल्मीकि, ऋषि जीवन से पूर्व ‘रत्नाकर’ नामक कुख्यात डाकू के रूप में जाने जाते थें।
  7. महर्षि वाल्मीकि को “अग्नि शर्मा” के नाम से भी जाना जाता है।
  8. महर्षि वाल्मीकि को ‘आदि कवि’ के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि वह प्रथम कवि थे जिसने प्रथम श्लोक की खोज की।
  9. उत्तर भारत में यह दिवस ‘प्रकट दिवस’ के रूप में प्रसिद्द है।
  10. वाल्मीकि जयंती के दिन विविध आयोजन होते हैं। जगह-जगह से शोभा-यात्रा निकाली जाती है। महर्षि वाल्मीकि की प्रतिमा स्थल पर फल वितरण एवं भंडारा का आयोजन होता है।

10 lines Essay on Valmiki Jayanti in English

  1. Valmiki Jayanti is celebrated with great pomp on the full moon day of Ashwin month according to Hindu calendar.
  2. Maharishi Valmiki Jayanti is celebrated to commemorate the birth of Maharishi Valmiki.
  3. The exact date of Maharishi Valmiki Jayanti celebrations are not yet known to anybody.
  4. The birth anniversary of Maharishi Valmiki comes in the month of September-October
  5. Valmiki was the first ever poet of Sanskrit language who wrote the epic “Ramayana”.
  6. Ramayana has a total of 24000 verses and has 7 chapters which are known as Kands.
  7. This book gives complete information about the civilization, living and culture of Treta Yuga.
  8. Sweets, dishes, fruits are distributed and bhandara (open free Feast) is organized at many places.
  9. Seminars are organized on the life of Maharishi Valmiki in various places.
  10. Maharshi Valmiki’s life gives inspiration to renounce bad deeds and walk on the path of shatkarma (good deeds) and devotion.
5/5 - (1 vote)

Leave a Comment